हरि शब्द रूप | Hari Shabd Roop

Hari Shabd Roop

Hari Shabd Roop : इस लेख में आपको हरि शब्द रूप कैसे लिखा जाता है इसके बारे में बताये है जैसे की हमें मालूम है की हरि शब्द का रूप उकारांत पुल्लिंग होता है, इससे गिरि, पति, सखि, ऋषि, कवि, अग्री, कपि, तिथि, जलधि, मुनि, रवि आदि जैसे के रूप भी हरि शब्द के रूप की तरह ही बनते है। 

हरि का मतलब भगवन या इश्वर होता है इनको हम सब पूजते है हरि के बदौलत ही हम सब साँस लेते है उकारान्त वाले शब्दों में पुँल्लिंग, स्त्रीलिंग व नपुंसकलिंग तीनो पाया जाता है।

हरि शब्द रूप – Hari Shabd Roop

विभक्तिएकवचनद्विवचनबहुवचन
प्रथमाहरिःहरीहरयः
द्वितीयाहरिंहरीहरीन्
तृतीयाहरिणाहरिभ्याम्हरिभिः
चतुर्थीहरयेहरिभ्याम्हरिभ्यः
पंचमीहरेःहरिभ्याम्हरिभ्यः
षष्ठीहरेःहर्योःहरीणां
सप्तमीहरौहर्योःहरिषु
सम्बोधनहे हरे!हे हरी!हे हरयः!

उम्मीद करता हूँ की Hari Shabd Roop आपको यह पोस्ट पसंद आया होगा अगर ये पोस्ट आपको अच्छा लगा तो अपने दोस्तों के साथ आगे सोशल मीडिया पर शेयर करे।

मिलते जुलते शब्द रूप :-

किम् शब्द रूपअस्मद् शब्द रूपभानु शब्द रूप
युष्मद् शब्द रूपफल शब्द रूपभानु शब्द रूप
बालक शब्द रूपनदी शब्द रूपगम् धातु रूप
साधु शब्द रूपमति शब्द रूपराजा शब्द रूप
कवि शब्द रूपगुरू शब्द रूप

मै निशांत सिंह राजपूत इस ब्लॉग का लेखक और संस्थापक हूँ, अगर मै अपनी योग्यता की बात करू तो मै MCA का छात्र हूँ.

Leave a Comment